Tuesday, September 29, 2015

बालों में नारियल तेल फायदा न करे तो लगाएं अरंडी का तेल



अगर आप बालों में केवल नारियल या बादाम का तेल ही लगाती हैं और आपको फिर भी फायदा नहीं हो रहा है तो, अपना तेल बद डालिये। बालों को स्‍वस्‍थ रखने के लिये आप उनमें अरंडी का तेल लगा सकती हैं। अरंडी को अंग्रेजी में कैस्‍टर ऑइल भी बोलते हैं।

अगर आपके बाल रूखे हैं, उनमें रूसी है या फिर दो मुंहे हो गए हैं और शाइन पूरी तहर से खतम हो चुकी है तो, आपको अरंडी का तेल ही लगाना चाहिये। आप चाहें तो अरंडी के तेल में जैतून का तेल या अन्‍य तेल भी मिक्‍स कर सकती हैं।

अरंडी का तेल काफी पौष्‍टिक होता है, जिसमें मौजूदा तत्‍व बालों के अदंर तक समा कर उसे मजबूती प्रदान करते हैं। अगर आप चाहती हैं कि आपके बालों की सभी समस्‍याएं दूर हो जाएं तो अरंडी के तेल से एक बार एक्‍सपेरिमेंट करना ना भूलियेगा। अब आइये जानते हैं अंरडी के तेल को किस प्रकार से लगाया जा सकता है।


बालों की ग्रोथ बढाए

आरंडी तेल को जैतून या नारियल तेल के साथ मिक्‍स कर के लगाने से बालों की ग्रोथ होती है। इसे 3 से 8 घंटो के लिये हफ्ते में तीन बार लगाएं।

चमकदार बालों के लिये यह तेल बालों में प्राकृतिक कोटिंग कर के बालों को चमकीला और स्‍मूथ बनाता है। आप इसे गरम कर के सिर में लगा सकती हैं।

बालों का झड़ना रोके बालों को झड़ने से रोकने के लिये सिर पर 30 मिनट तक के लिये इस तेल से मसाज करें और फिर बालों को धो लें।
दो मुंहे बालों से बचाए इस तेल में विटामिन ई, ओमेगा 6 फैटी एसिड और जरुरी अमीनो एसिड पाए जाते हैं। यह तेल बालों को दो मुंहा होने से बचाता है। इसे लगाने के लिये थोड़े से जोजोबा ऑइल में इस तेल की थोड़ी सी मात्रा मिलाइये और नहाने से पहले बालों में लगाइये।

रूसी भगाए कैस्‍टर ऑइल में एंटी वाइरल, एंटी बैक्‍टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं जिससे रूसी की समस्‍या दूर होती है। इस तेल को ऑलिव ऑइल तथा कुछ बूंद नींबू के रस के साथ मिला कर लगाएं। फिर उसके आधे घंटे के बाद नहा लें।

बालों में नमी बढाए अगर आपके बाल रूखे और फिजी हैं तो आपको आरंडी के तेल को गरम कर के सिर पर लगाना चाहिये। इससे आप के बाल मोटे भी हो जाएंगे।
प्राकृतिक कंडीशनर थोड़े से कैस्‍टर ऑइल को एलोवेरा जैल, शहद और नींबू के रस में मिलाइये। इसे बालों की जड़ों से शुरु कर के बालों के आखिर तक लगाइये। फिर 30 मिनट के बाद बालों को धो लीजिये।

Monday, September 28, 2015

बालों की सभी परेशानियों को दूर करे ये 3 आयुर्वेदिक तेल


 क्‍या आप जानते हैं कि हमारी दादी-नानी के बाल अभी तक इतने लंबे और मजबूत क्‍यूं हैं? ऐसा इसलिये क्‍योंकि वे अपने बालों को आयुर्वेदिक तेलों से मसाज किया करती थीं। गरम तेल से सिर को अच्‍छी प्रकार से मसाज करने पर आपके बालों में भी जान आ जाएगी। आयुर्वेदिक तेलों में आपको गुड़हल का तेल, तुलसी या फिर आवंले का तेल ही प्रयोग करना चाहिये। आज हम आपको बताएंगे कि इन सभी तेलों का प्रयोग कैसे करना है।
 अगर आप इन्‍हें भली प्रकार से रखेंगी तो यह तेल कई सालों तक चल सकते हैं। इन्‍हें एयर टाइट कंडेनर में ही रखें और सूरज की धूप ना पड़ने दें।
1 गुडहल तेल
 यह तेल बालों को पतला होने तथा झड़ने से रोकता है। इसे तैयार करने के लिये विधि पढ़ें - सामग्री- 3-4 गुड़हल के फूल, मुठ्ठीभर उसकी पत्‍तियां, 1 चम्‍मच मेथी दाना और नारियल तेल। विधि - गुड़हल और पत्‍तियों को मिक्‍सी में पीस कर पेस्‍ट बना कर एक बरतन में डालें। फिर उसमें नारियल तेल डाल कर गरम करें। इस पेस्‍ट को लगातार चलाती रहें। फिर इसमें मेथी दाना डाल कर कुछ सेकेंड गरम करें। आपका तेल तैयार है, इसका जब भी प्रयोग करें, हल्‍का सा गरम कर लें।

तुलसी तेल
बालों में चमक और जड़ से मजबूती प्रदान करने के लिये यह तेल लगाएं। सामग्री- तुलसी पावडर, नारियल तेल, पानी और मेथी दाना। विधि- 2 चम्‍मच तुलसी पावडर में थोड़ा सा पानी मिक्‍स कर के पेस्‍ट बनाएं। एक बरतन में नारियल तेल गरम करें, जब तेल में उबाल आने लगे तब उसमें तुलसी पेस्‍ट डालें। तेल को चलाती रहें। फिर इसमें मेथी के दाने डालें। जब हो जाए तब तेल को छान कर किसी शीशी में भर लें। तेल को हमेशा गरम कर के प्रयोग करना चाहिये।

 आंवला तेल [आमला और कडी पत्‍ते से बनाइये बालों को काला करने वाला तेल] बालों का झड़ना, असमय सफेद होना या फिर अन्‍य बालों की समस्‍याओं के लिये आंवले का तेल काफी लाभकारी है। इसे बनाने की विधि जानें- सामग्री- आंवला पावडर, नारियल तेल और पानी।
 विधि - एक बरतन में, आंवला पावउर और पानी मिक्‍स कर के 15 मिनट तक उबालें। आंच बंद करें और इस तेल को ठंडा होने दें।फिर इसे छान कर किनारे रखें। अब अलग से जरा सा आंवला पावडर ले कर थोड़ा सा पानी मिला कर पेस्‍ट बनाएं। अब एक दूसरे बरतन में, तैयार किया हुआ आंवले का पानी, नारियल तेल और पेस्‍ट मिलाएं। इसे आंच पर रखें और इसे तब तक उबालती रहें जब तक कि यह गाढ़ा पेस्‍ट ना बन जाए। इसे लगातार चलाना होता है। उसके बाद स्‍टोव बंद कर दें। अब आप इस तेल को हल्‍का ठंडा हो जाने के बाद सिर पर लगा सकती हैं।

Monday, September 21, 2015

बालो को लम्बा करने का तेल बनाये घर पर


सामग्री :-
1. अरंडी का तेल 250 ग्राम
2. जैतून का तेल 50 ग्राम,
3. चन्दन कि लकड़ी का बारीक बुरादा 50 ग्राम
4. काँफी पाउडर 50 ग्राम।
5. बरगद के पेड़ कि एकदम ताजा पत्ती (बन्द वाली कोपल) 300 ग्राम
6. अम्बर बेल 300 ग्राम (जो हरे रंग के धागे कि तरह पेड़ के ऊपर मिलती है।)
क्र. 1 से 4 की चीजेँ पंसारी एवँ 5,6 को गाँव देहात से ढूँढ कर लाना होगा।
बनाने की विधि --
दोनोँ तेलोँ को मिला कर हल्की आँच पर गर्म करेँ। फिर इस तेल मे सभी चीजेँ डाल लेवेँ और तब तक हिलाते रहेँ जब तक पूरी सामग्री काली होकर जल ना जायेँ। सावधानी रखना तेल तड़तड़ाता बहुत है। सभी चीजेँ जल जाने पर ठंडा करके तेल को बोतल मे भरकर रख लेवेँ।

प्रयोग की विधि --
रोजाना 20 मिनिट तक उँगलियोँ के पोरौँ से इस तेल की मालिश सिर मे करेँ। तेल के नियमित प्रयोग से जो बाल सफेद हो गये है वो भी वापस जड़ से काले उगने लगेँगे।
इसके साथ में एक एक चम्मच सुबह शाम त्रिफला चूर्ण गुनगुने पानी के साथ ज़रूर ले।

6 महीने में रिजल्ट मिल जायेगा।स्नान करने के बाद ही तेल लगाना है , शेम्पू का प्रयोग नहीं करना तेल लगाने के बाद |

गुर्दे की पत्थरी का नुस्खा.


इस नुस्खे से कई रोगियों को लाभ हुआ.अन्य रोगी भी लाभ उठा सकें इसलिए नुस्खा प्रस्तुत है.
करीब दो किलो नीबूं का रस निकाल लें.यह रस लगभग एक लीटर होना चाहिए.इसे छान कर कांच की बड़ी बोतल मे भर कर इसमे मुट्ठी भर कौड़ियां डाल कर रख दें और 7-8 दिन तक हिलाएं नही.कौड़ियां पन्सारी की दुकान मे मिलती हैं नींबू के रस का रंग दुधिया हो जाएगा.अब रोजाना सुबह खाली पेटआधा कप रस अच्छी तरह बारिक छान कर पीना है.इसके एक घण्टे तक कुछ भी खांएं या पिएं नही.
रस खत्म होने तक ऐसे रोजाना सेवन करें.पत्थरी धीरे धीरे गल कर पेशाब के साथ निकल जाएगी.
और रोग मुक्त हो जाओगे.

Monday, September 14, 2015

सेहत से भरपूर है फ्रेंचबीन्स



बीन्स एक ऐसी सब्जी है जिसका प्रयोग लगभग हर तरह के भोजन में किया जाता है। यह सेहत से भरा एक पौष्टिक वि‍कल्प भी है। सलाद से लेकर, भोजन तक में प्रयोग की जाने वाली, प्रोटीन से भरपूर फ्रेंच बीन्स, किस तरह आपकी सेहत को और भी बेहतर बना सकती है, जानिए -

बीन्स की हरी पत्त‍ियों को भी सब्जी के रूप में भोजन में शामिल किया जाता है तथा सूखी हुई फलियों को राजमा या लोबिया के रूप में खाया जाता है।
1  फ्रेंच बीन्स में मुख्यत: पानी, प्रोटीन, कुछ मात्रा में वसा तथा कैल्सियम, फास्फोरस, आयरन, कैरोटीन, थायमीन, राइबोफ्लेविन, नियासीन, विटामिन सी आदि तरह के मिनरल और विटामिन मौजूद होते हैं।
 2  इनके अलावा बीन्स विटामिन बी2 का भी प्रमुख स्त्रोत है। प्रति सौ ग्राम फ्रेंच बीन्स से तकरीबन 26 कैलोरी मिलती है। राजमा में यही सब अधि‍क मात्रा में पाया जाता है इसलिए प्रति सौ ग्राम राजमा से 347 कैलोरी मिलती है।

3  बीन्स, घुलनशील फाईबर का अच्छा स्रोत है, जिसके कारण यह हृदय रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद मानी जाती है। ऐसा माना जाता है कि प्रतिदिन एक कप पकी हुई बीन्स का प्रयोग करने से रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है और इससे हृदयाघात की संभावना भी 40 प्रतिशत तक कम हो सकती है।
 4  बीन्स में सोडियम की मात्रा कम तथा पोटेशियम, कैल्शि‍यम व मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होती है जो रक्तचाप को बढ़ने से रोकता है और हार्ट अटैक के खतरे को कम करता है।

5 बीन्स का 'ग्लाइसेमिक इन्डेक्स' कम होता है जिससे अन्य भोज्य पदार्थों की अपेक्षा बीन्स खाने पर रक्त में शर्करा का स्तर अधि‍क नहीं बढ़ता । इसमें मौजूद फाइबर रक्त में शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद करते हैं। यही कारण है, कि मधुमेह के रोगियों को बीन्स खाने की सलाह देते है।


6 बीन्स का रस शरीर में इन्सुलिन के उत्पादन को बढ़ावा देता है। इस वजह से मधुमेह के मरीजों के लिए बीन्स खाना बहुत लाभदायक माना जाता है।

7  फ्रेंच बीन्स किडनी से संबंधित बीमारियों में भी काफी फायदेमंद है। किडनी में पथरी की समस्या होने पर, आप लगभग 60 ग्राम बीन्स की पत्त‍ियों को चार लीटर पानी में करीब चार घंटे तक उबाल लें। फिर इसके पानी को कपड़े से छानकर करीब आठ घंटे तक ठंडा होने के लिए रख दें। अब इसे फिर से छान लें पर ध्यान रखें कि इस बार इस पानी को बिना हिलाए छानना है। इसे एक सप्ताह तक हर दो घंटे में पीने से अत्यधि‍क लाभ होता है।

8 होम्योपैथिक दवाओं में भी बीन्स बहुत काम आती है। ताजी बीन्स का उपयोग रूमेटिक, आर्थ्राइटिस तथा मूत्र संबंधी तकलीफ के लिए दवाई बनाने के लिए किया जाता है।

9  बीन्स में एन्टीआक्सीडेंट की मात्रा भी काफी होती है। एन्टीऑक्सीडेंट शरीर में कोशिकाओं की मरम्मत के साथ् ही त्वचा व दिमाग के लिए भी अच्छा माना जाता है। इसलिए इसका सेवन करने से कैंसर की संभावना कम हो जाती है। इसमें मौजूद फाईटोएस्ट्रोजन स्तन कैंसर के खतरे को भी कम हो सकता है।

10  इन सभी के अलावा बीन्स कैल्शियम का एक अच्छा स्त्रोत हैं, जो हड्डियों तथा दांतों दोनों के विकास में महत्वपूर्ण होता है।


Wednesday, September 2, 2015

इन 9 बातों में नहीं है दम, इनसे कभी नहीं होता वजन कम



अगर आप ये 9 काम हर रोज यह सोच कर करते हैं कि इनसे आपका वजन कम हो जाएगा, तो यह सिर्फ आपकी गलतफ    हमी है। मोटापा कम करने के ये सिर्फ मिथ हैं, जानिए इनके फैक्ट...
ज्‍यादा वर्कआउट करने से कभी भी वजन कम नहीं होता है। हर दिन नियमित रूप से व्‍यायाम करने से ही लाभ होता है।एक समय का खाना न खाना या अपनी खुराक में कटौती कर देने से भी आपके वजन में कमी आ जाएगी। बस खाने-पीने का नियम सही रखें।
फलों को खाने से कभी वजन नहीं बढ़ता। एक समय खाना न खाएं। फल ही खाएं। ये आपको एनर्जी देते हैं। फैट नहीं बढ़ाते हैं। इसी तरह यह भी आपकी गलतफहमी है कि ज्यादा पानी पीते रहने से मोटापा घटता है। यह सिर्फ एक मिथ है। पानी पीने से आपका पेट भर जाता है, लेकिन कैलोरी में कमी नहीं आती।
अपनी खुराक में कार्बोहाइड्रेट शामिल नहीं करते हैं, तो आपको कमजोरी आ जाएगी। इससे आप दुबले नहीं हो सकते हैं। बस इतना ध्यान रखने की जरूरत होती है कि आपको कितना कार्बोहाइड्रेट लेना है। कई लोगों का मानना है कि मीठा खाने से वो मोटे हो जाएंगे। लेकिन ऐसा नहीं है। डार्क चॉकलेट आदि खाने से आपके स्‍वास्‍थ्‍य को लाभ मिलेगा।
सिर्फ फाइबर का सेवन करना भी वजन कम नहीं कर सकता। फाइबर से आपको एनर्जी मिलती है, इसके अलावा आपकी पाचन क्रिया भी दुरुस्‍त रहती है। सिर्फ फाइबर के सेवन से शरीर में दुबलापन नहीं आता। सलाद ज्यादा खाने से भी वजन कम नहीं होता। इससे आपके शरीर में प्रोटीन की मात्रा अच्‍छी हो जाती है लेकिन वजन में कमी नहीं आती है।
जूस पीना भी मोटापे कम करने का जरिया नहीं है। वजन में कमी नहीं आती है जूस पीने से।

इन 5 चीजों को कभी दोबारा गर्म करके नहीं खाना चाहिए




खान-पान से जुड़ी इन 5 चीजों को दोबारा गर्म करके खाना छोड़ दीजिए, वरना फायदे की जगह होगा नुकसान...
आलू सेहत के लिए अच्छा होता है, लेकिन दोबारा गर्म करके खाएंगे, तो पोषक तत्व खत्म हो जाएंगे और पाचन क्रिया पर उलटा प्रभाव पड़ेगा।
चुकंदर को कभी भी दोबारा गर्म करके नहीं खाना चाहिए। ऐसा करने से इसमें मौजूद नाइट्रेट समाप्त हो जाता है। अगर ज्यादा बन जाए, तो बिना गर्म किए खाएं।
मशरूम फ्रेश ही खाएं। दोबारा गर्म करके खाने से इसके प्रोटीन का कॉम्पोजिशन बदल जाता है और ये हानिकारक हो सकता है।
अंडे को दोबारा गर्म करके खाना हमेशा नुकसानदेह होता है। ऐसा करने से इसमें मौजूद प्रोटीन विषाक्त हो जाता है।
पालक को दोबारा गर्म करके खाना कैंसर का कारण भी हो सकता है। इसमें मौजूद नाइट्रेट दोबारा गर्म करने के बाद कुछ ऐसे तत्वों में बदल जाते हैं जिससे कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

रोज करते हैं लंबे समय तक ड्राइविंग, तो आ सकते हैं इन 5 बीमारियों की चपेट में!



घर से ऑफिस की दूरी ज्यादा है और आपको करनी पड़ रही है लंबी ड्राइविंग, तो जरूर गौर करें इन 5 बीमारियों पर, जो पैदा होती हैं लंबे समय तक ड्राइविंग करने से। समय रहते इन्हें पहचानें और कराएं तुरंत इलाज...
बैक पेन सताने लगता है। घुटनों का दर्द भी होने लगता है।
हैरानी होगी आपको यह जानकर कि ज्यादा देर तक ड्राइविंग करने से ब्लड शुगर लेवल बढऩे की संभावना बहुत ज्यादा रहती है। सेंट लुइस के यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए रिसर्च में ये बात सामने आई है कि हाई ब्लड ग्लूकोज लेवल प्री डायबिटीज और डायबिटीज का खतरा पैदा करता है।
कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है। बढ़ते हुए कोलेस्ट्रॉल से दिल के बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है।
लंबी ड्राइविंग से नींद की समस्या भी पैदा होती है। नींद न आने की समस्या के लोग शिकार हो जाते हैं।
डिप्रेशन का शिकार भी हो सकते हैं। सेंट लुइस के यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए रिसर्च में ये बात भी सामने आई है कि रोजाना देर तक सफर करने से डिप्रेशन, चिंता, तनाव, थकान जैसी कई परेशानियां पैदा होने लगती हैं।

रात को सोने से पहले मोजे में रखें बस दो प्याज की स्लाइस, होंगे ये अनोखे फायदे



रात को सोने से पहले मोजे में एक प्याज की स्लाइस रखने के कई सेहत भरे फायदे होते हैं। मोजे में स्लाइस इस तरह रखें कि वह पूरी तरह पैर से टच हो। वरना नहीं मिलेगा कोई फायदा। प्याज में मौजूद फॉस्फोरिक एसिड खून की धमनियों में घुस कर खून को शुद्ध बनाता है।
पैरों के नीचे सीधे अलग-अलग तंत्रिका अंत (लगभग 7,000) होती हैं, जो कि शरीर के विभिन्न अंगों से जुड़ी हुई होती हैं। ये शरीर के भीतर एक शक्तिशाली बिजली के सर्किट की तरह से काम करते हैं, लेकिन ये जूते-चप्पल पहनने की वजह से निष्क्रिय हो जाते हैं। इसलिए कुछ घंटों के लिए नंगे पैर टहलना चाहिए।
प्याज में एंटी बैक्टीरियल और एंटी वायरल गुण होते हैं, जो शरीर पर रडऩे से बैक्टीरिया और रोगाणुओं का नाश करता है। जब त्वचा प्याज में मौजूद फास्फोरिक एसिड सोख लेता है, तो खून शुद्ध होता है। सोने के दौरान प्याज मोजे में रखने से पैरों की गंध दूर होती है। टॉक्सिंस दूर होते हैं।
हार्ट के लिए अच्छा होता है। प्याज के टुकडे को पांव के बीच में रख कर सोने से हार्ट स्वस्थ रहता है।
पेट के संक्रमण से छुटकारा मिलता है। किडनी समस्या में भी मदद मिलती है। इसके अलावा छोटी आंत और मूत्राशय की समस्याओं से भी राहत मिलती है।  अगर आपको लगे कि आपको बुखार चढ़ रहा है, तो मोजे में प्याज की स्लाइस रख लें।